तुलसी का पौधा सुखने के कारण

तुलसी का पौधा सुखने के कारण और प्रभाव – कैसे बचे 

Spread the love

तुलसी का पौधा सुखने के कारण,तुलसी का पौधा सूख जाए तो क्या होता है,तुलसी का पौधा किस दिन लगाएं,

तुलसी का पौधा सुखने के कारण

तुलसी जी का पौधा जिसे आध्यात्मिक और औषधीय दोनों महत्व के लिए जाना जाता है भारत में बहुत ही लोकप्रिय पौधा है और लगभग हर घर में आपको तुलसी जी का पौधा मिल ही जाएगा क्योंकि हमारा धर्म हमें यह बताता है की घर में तुलसी जी का पौधा लगाना अत्यंत शुभ होता है। 

हालांकि किसी भी अन्य पौधे की तरह तुलसी भी मुरझा सकती हैं और सोच सकती हैं अगर उससे उचित देखभाल ना मिले। 

इस लेख में हम विभिन्न कारणों पर चर्चा करेंगे की तुलसी का पौधा क्यों सूख जाता है और सूखने से उसका प्रभाव हमारे जीवन पर क्या पड़ता है और इसे कैसे पुनर्जीवित किया जा सकता है।

तुलसी का पौधा सूख जाए तो क्या होता है ?

अगर आपके घर में तुलसी का पौधा बार-बार लगाने के बाद भी सूख जा रहा है तो ऐसा माना जाता है कि यह चिन्ह घर में आने वाले किसी संकट का संकेत है। 

ज्योतिष विज्ञान के जानकारों का यह भी मानना है कि बार-बार तुलसी का पौधा सूखने का कारण घर के किसी सदस्य के कुंडली में पित्र दोष होना भी हो सकता है। पितृपक्ष में दान पुण्य करने से इस समस्या का निदान हो सकता है। 

सूखे हुए तुझे जी के पौधे को आप यूं ही ना फेंक दें आप इसे बड़े आदर सम्मान के साथ जड़ सहित उठाकर किसी नदी तालाब या सरोवर में विसर्जित कराएं। 

तुलसी का पौधा किस दिन लगाएं ? 

आपको अपने घर में तुलसी का पौधा गुरुवार के दिन लगाना चाहिए अगर आपके घर में आंगन है तो आप आंगन में ही तुलसी का पौधा लगाएं और नित्य उनकी पूजा-अर्चना करें ऐसा करने से भगवान विष्णु की कृपा हमेशा आप पर बनी रहेगी और घर में सुख समृद्धि का आगमन होता रहेगा। 

तुलसी का पौधा सुखने के कारण

तुलसी का पौधा सुखने के कारण ( अनुचित धूप ) 

तुलसी के पौधों को पनपने के लिए प्रतिदिन लगभग 6-8 घंटे धूप की आवश्यकता होती है। हालाँकि, बहुत अधिक सीधी धूप पत्तियों को झुलसा सकती है, जबकि अपर्याप्त धूप के कारण पत्तियाँ पीली होकर गिर सकती हैं। इसे रोकने के लिए, सुनिश्चित करें कि आपका तुलसी का पौधा ऐसी जगह पर रखा गया है जहाँ सही मात्रा में धूप आती हो।

तुलसी का पौधा सुखने के कारण ( शीत प्रभाव )

शीत प्रभाव तुलसी के पौधे गर्म जलवायु के मूल निवासी हैं और अत्यधिक ठंडे तापमान को सहन नहीं कर सकते हैं। ठंडी हवाओं या पाले के संपर्क में आने से पत्तियाँ मुरझा सकती हैं और गिर सकती हैं। सर्दियों के दौरान, पौधे को घर के अंदर या ग्रीनहाउस में रखना सबसे अच्छा होता है।

तुलसी का पौधा सुखने के कारण ( गर्मियों में पानी की कमी )

गर्मी के महीनों में तुलसी के पौधों को हाइड्रेटेड रहने के लिए अधिक पानी की आवश्यकता होती है। यदि मिट्टी बहुत अधिक शुष्क हो जाती है, तो पत्तियाँ मुरझा सकती हैं और भूरी हो सकती हैं। गर्मी के महीनों में मिट्टी को नम रखने के लिए अपने तुलसी के पौधे को नियमित रूप से पानी दें।

तुलसी का पौधा सुखने के कारण ( सर्दियों में अत्यधिक पानी देना )

सर्दियों के दौरान, तुलसी के पौधों को कम पानी की आवश्यकता होती है क्योंकि वे सुप्त अवधि में प्रवेश करते हैं। इस समय के दौरान अधिक पानी देने से मिट्टी में जलभराव हो सकता है, जिससे जड़ सड़ सकती है और अंततः पौधे की मृत्यु हो सकती है। सर्दियों में मिट्टी को पानी के बीच थोड़ा सूखने दें।

तुलसी का पौधा सुखने के कारण ( रोग और कीड़े ) 

तुलसी का पौधा सुखने के कारण

तुलसी का पौधा सूखने के कारणों में रोग और कीड़े की निगरानी करना भी जरूरी है अगर आप ध्यान नहीं देंगे तो धीरे-धीरे करके यह आपके पूरे पौधे को सुखा देंगे और अंत में आप का पौधा मर जाएगा

तुलसी के पौधे विभिन्न रोगों जैसे

1. पाउडरी मिल्ड्यू (मेन्कोजेब दवा का छिड़काव करें)

पत्तियों पर सफेद पाउडर जैसे दिखेंगे और धीरे धीरे कर पौधे से पत्तियां गिर जाएंगी और उपचार न करने पर पौधा सूख जाएगा। 

2. रूट रोट 

अत्यधिक जल दे देने से कई बार तुलसी के पौधों में फंगस लग जाते हैं और जड़ों में सड़न की समस्या शुरू हो जाती है। कुछ दिनों तक तो ऊपर का पौधा स्वस्थ दिखता है लेकिन अंदर ही अंदर उसकी जड़े सूख रही होती है और ध्यान ना देने के कारण पौधा सूख जाता है। 

3. बैक्टीरियल लीफ स्पॉट 

पतियों के ऊपर काले धब्बे बन जाते हैं जिससे शॉट खोल का लक्षण हो सकता है जिससे पौधे अपने पत्तियां गिरा देते हैं और समय के साथ सूख जाते हैं। 

 अच्छी स्वच्छता बनाए रखना और अत्यधिक पानी को रोकने से बीमारी को रोकने में मदद मिल सकती है। यदि पौधा संक्रमित हो जाता है, तो इसे  रोगर या नीम के तेल से उपचारित करें।

तुलसी का पौधा सुखने के कारण

अंत में,

तुलसी के पौधे की देखभाल अपेक्षाकृत आसान है, लेकिन इसके लिए उचित धूप, पानी और अत्यधिक तापमान से सुरक्षा की आवश्यकता होती है। यह सुनिश्चित करने के लिए ऊपर दिए गए सुझावों का पालन करें कि आपका तुलसी का पौधा स्वस्थ और संपन्न बना रहे।

और देखें : –

  1. इन 6 घर के लिए शुभ पौधे को लगाएं और धन के साथ भाग्य को भी आमंत्रण दे।
  2. 6 बेडरूम में लगाने वाले पौधे जो आपके कमरे मे जान डाल देंगे
  3. मनी प्लांट के पौधे को घर मे कैसे लगाय
  4. 10 छाया में उगने वाले पौधे

तुलसी का पौधा सूख जाने पर किस दिन उखाड़ना चाहिए? 

एकादशी ,सूर्य अथवा चंद्र ग्रहण, पूर्णिमा,अमावस्या सूतक और पितृपक्ष अथवा श्राद्ध के बंदे दिन को छोड़कर सूखे हुए तुलसी के पौधे को उखाड़ कर बहते नदी में या नहर में प्रवाहित किया जा सकता है। 

तुलसी का पौधा किसी को देना चाहिए या नहीं? 

किसी को भी उपहार के तौर पर तुलसी का पौधा देना वर्जित तो नहीं है लेकिन इस बात को जरूर ध्यान रखें कि जिसे भी आप पौधा दे रहे हैं वह उसका अच्छी तरह से ध्यान रखें नहीं तो उसके द्वारा किए गए पाप का फल आपको भी भोगना पड़ेगा। 

मरते हुए तुलसी के पौधे को कैसे बचाएं ? 

बहुत से लोग अपने तुलसी जी के पौधे में अधिक गीली खाद का उपयोग करते हैं जिसके कारण जड़े चढ़ने लग जाती हैं और इसका पता भी नहीं चलता जब तक आप का पौधा ऊपर से सुपर मुरझाना जाए इसी लिए गीली खाद का प्रयोग ना करें और पानी भी जरूरत पड़ने पर ही दें। 


Spread the love
WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Instagram Group Join Now

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *